अबकी बार होगी सिर्फ आपकी सरकार

जैसे-जैसे चुनाव नजदीक आने लगते हैं नेताओं के चोग़े और भी सफेद नजर आने लगते हैं। चुनावी माहौल में हर कोई अपने चोग़े को सबसे साफ दिखाने की होड़े में लगा रहता है और दूसरों के चोग़े को सबसे मैला बताने में। यह कोई नयी बात नही है,  जब से भारत आजाद हुआ है तब से ऐसा ही होता आ रहा है। जिन नेताओं ने भारत को आजाद करवाने में अपने चोगों की परवाह नही की, आज के समय के नेता बिल्कुल इसके विपरीत हैं। जैसे ही चुनाव नजदीक आने लगते हैं वैसे ही नेता, लोगों से गले मिल उनके दिल के करीब आने लगते हैं। उस समय उनकी बातों में जो मधुरता होती है तब ऐसा लगता है कि मानो साक्षात सरस्वती उनकी जुबान पर विराजमान हो। जिन नेताओं को अपने विधानसभा क्षेत्र के बारे में सही से मालूम भी नही होता ऐसे नेता चंद दिनों में ही हर गली-कुचे के चक्कर काट आते हैं। खैर इन नेताओं की जिनती भी तारीफ की जाए वह कम ही लगती है। अगर हम एक दिन इन लोगों की तारीफ करने बैठ जाए तो माँ कसम जुबान छिलवाए बगैर रह नही पाएंगें। वैसे भी आज के समय में जितना कम कहो उतना ही सही है ज्यादा बोलोगे तो लोग पागल समझने लगते हैं।

Jaipur Explore

चलिए अब हमारे नेताओं की बाते तो बहुत कर ली पर अब आते हैं हमारी भोली जनता पर। हमारी जनता इतनी भोली है कि जैसे दूध की धूली और मक्खन की चटाई हो। बाकि के दिनों में यह जनता बहुत तेज तर्रार बनती है पर जैसे ही चुनाव नजदीक आते हैं न जाने इनका तेज-तर्रार दिमाग कहाॅं चला जाता है और हर किसी के बहकावे में आ जाती है। फिर चुनाव वाले दिन किसी ऐसे व्यक्ति को वोट देकर आ जाएंगे फिर इसके बाद पूरे 5 सालों तक रोते रहेगें। ऐसे नाजुक पलों में जनता को सोच-समझ कर ही अपना कीमती वोट देना चाहिए। जिससे वह खुद का भला तो करे ही साथ ही साथ समाज का भला भी हो सके। जनता को चाहिए है कि वह लुभावने वादों में न जाए और जो आपकी जरूरतों को पूरा करे उसी को अपना मत दें। हमारा काम है लोगों को जागरूक करना बाकि फैसला जनता के उपर है कि किसे वो अपना नेता चुनती है। क्यों कि इस बार सरकार उनकी नही, आपकी होनी चाहिए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.