सिर्फ 50 रूपए में गुजारें, जोधपुर की सर्द रातें

आज के समय में जहाँ भी  देखो वहाँ आपको महंगाई का असर देखने को मिल ही जाएगा। अगर बात की जाए घूमने-फिरने की तो इसके लिए आपकी जेब भरी होनी चाहिए। कुछ ऐसा ही है राजस्थान का शहर जोधपुर जहाँ साल के हर महीने पर्यटकों की भीड़ लगी रहती है, खासकर सर्दी के दिनों में पर्यटक यहाॅं आना ज्यादा पसंद करते हैं। दिन के समय में यहाॅं ठण्डा होता ही है पर रात के समय रेत ठण्डी हो जातीे है जिस वजह से यहाॅं की रातें और भी ठण्डी हो जाती है। ऐसे में अगर किसी को यहाॅं आकर रात गुजारनी हो तो उसके लिए किसी होटल में कमरा मिल पाना बेहद मुश्किल हो जाता है। अगर गलती से कोई कमरा मिल भी जाता है तो उसके लिए ज्यादा से ज्यादा रूपयों की बात की जाती है। ऐसे में जहाँ एक मामूली से कमरे की कीमत 200-300 रूपए होती है वहीं यहाॅं आने वाले लोगों से 1000 रूपए तक ऐंठे जाते है। अगर कोई गरीब हो तो उसके लिए इतने रूपए दे पाना बेहद मुश्किल हो जाता है। इसे देखते हुए जोधपुर शहर के कुछ लोगों ने फैसला किया कि क्यों ना जोधपुर आने वाले लोगों को कम से कम रूपयों में रहने की व्यवस्था करवाई जाए।

 

Jaipur Explore Jodhpur

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि अगर कोई जोधपुर जाता है तो वह कम से कम से रूपयों में यहाँ ठहर सकता है। इसके लिए आपको सिर्फ 50 रूपए देने होगें जहाॅं आपको एक चारपाई और ठण्ड से बचने के लिए रजाई की व्यवस्था की गई है। यहाँ रात होते-होते चारपाईयां सड़क के किनारे नजर आने लगती है और रात का एक समय ऐसा आता है जहाँ चारो तरफ आराम से सोते हुए लोग दिखाई देंगे। ऐसा बिल्कुल भी नहीं है कि यह व्यवस्था सिर्फ गरीब लोगों के लिए की गई, आप भी यहाॅं जाकर रह सकते हो। अगर बात की जाए सामान के चोरी होने की तो इसके लिए यहाँ रात भर चौकीदार रहता है जिसके लिए आपको किसी भी तरह की फ्रिक करने की जरूरत नही है।

Jaipur Explore Jodhpur

यह देखकर काफी अच्छा लगता है कि आज के समय में भी ऐसे लोग हैं जिन्हें वाकई में लोगों की परवाह है। इसे देखते हुए हमें भी अपने आस-पास कुछ ऐसी ही व्यवस्था करनी चाहिए। जिससे ज्यादा से ज्यादा जरूरतमंद लोगों की मदद की सकती है। देखा जाए तो ऐसा बेहद कम ही देखने को मिलता है पर जब भी ऐसी चीज़ें देखने को मिलती है तो हर दिल से ऐसे  लोगों के लिए दुआ ही निकलती है।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.