व्यवस्था में आना लक्ष्य नही, व्यवस्था में खामियों को दूर करना है मुख्य लक्ष्य- नटवर सिंह

किसी महान शक्स ने कहा है ” किसी भी देश की उन्नति और अवनित उस देश में रहने वाले युवाओं

Read more

सामाजिक नेतृत्व के चरित्र व आचरण में शुचिता अनिवार्य- लोटवाड़ा

जीवन के हर क्षेत्र के नेतृत्व की, चाहे वह सामाजिक हो, राजनैतिक हो, या धार्मिक हो, यह अपेक्षित कसौटी होती

Read more

स्वस्थ दिमाग में ही बसता है, स्वस्थ शरीर- हेमंत अरोड़ा

वर्तमान समय में जिस तरह से इंसान का शरीर बीमारी का घर बनता जा रहा है इसे देखते हुए सेहत

Read more